Computer Virus क्या है इसके प्रकार और नुकसान | What is Computer Virus in hindi

Computer Virus क्या है (What is Computer Virus in hindi), कंप्यूटर वायरस का प्रकार, फुल फॉर्म, सबसे पहला कंप्यूटर वायरस, कंप्यूटर को वायरस से नुकसान, कंप्यूटर वायरस से बचने के उपाय, कंप्यूटर में वायरस आने के लक्षण, Computer Virus in hindi, Types of Computer Virus आदि।

दोस्तों क्या आपको पता है की Computer Virus क्या है या फिर कंप्यूटर में वायरस आ जाने से क्या नुकसान होता है, अगर नहीं पता है तो ये जानकारी आपके लिए बहुत उपयोगी होने वाला है क्यंकि इस आर्टिकल में आपको कंप्यूटर वायरस की पूरी जानकारी मिलेगा।

इस आर्टिकल में मैं आपको कंप्यूटर वायरस की पूरी जानकारी देने वाला है जिसमे आप जानेंगे की Computer Virus क्या है (What is Computer Virus in hindi), कंप्यूटर वायरस के कार्य, प्रकार, परिभाषा, नुकसान और इससे बचने के उपाय क्या है आदि।

आप एक कंप्यूटर उपयोगी है या कंप्यूटर का स्टूडेंट हैं तो ये आर्टिकल Computer Virus क्या है आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण होगा। ये आर्टिकल आपको अच्छा लगे तो इसे अपने दोस्तों के साथ अवश्य शेयर कीजियेगा जिससे उन्हें भी कंप्यूटर वायरस की सही जानकारी मिल सके।

ये जानकारी भी पढ़ें –

चलिए दोस्तों इस आर्टिकल के माध्यम से हम जान लेते हैं की Computer Virus क्या है (What is Computer Virus in hindi) या कंप्यूटर वायरस की पूरी जानकारी क्या है?

Table Of Contents Hide

Computer Virus क्या है? (What is Computer Virus)

कंप्यूटर वायरस एक येसा प्रोग्राम होता है जो कंप्यूटर के अन्दर होने वाले कार्य को काफी प्रभाबित करता है जिससे कंप्यूटर काफी धीमी गति से कार्य करने लगता है। Virus का पूरा नाम Vital Information Resource Under Siege होता है जो की छोटे छोटे Programs होते हैं और ये कंप्यूटर में उपस्थित Data और Programs को नुकसान पहुंचाता है।

Computer Virus क्या है
Computer Virus क्या है?

जिस प्रकार हमारे ह्यूमनबॉडी में वायरस पहुँचने के बाद यह हमारे Nerves System को प्रभातित करता है, ठीक वैसे ही कंप्यूटर में जब वायरस आ जाता है तो वो कंप्यूटर की ऑपरेटिंग सिस्टम को प्रभाबित करता है जीससे यूजर के द्वारा कंप्यूटर में रखे Data का भी नुकसान हो सकता है।

जिस प्रकार एक सॉफ्टवेर को प्रोरामिंग करके Develop किया जाता है उसी प्रकार इसे भी Develop किया जाता है। कंप्यूटर वायरस को कोई भी इसलिए बनता ताकि वो किसी दुसरे के कंप्यूटर में वायरस डाल कर उसका नुकसान कर सके ये उसका data चुरा सके।

एक कंप्यूटर से दुसरे कंप्यूटर में वायरस आसानी से फ़ैल सकता है और किसी भी कंप्यूटर में वायरस एक बार आने के बाद पुरे कंप्यूटर को प्रभाबित कर सकता है। इसकी खाश बात होता है की ये खुद को कॉपी पेस्ट करता रहता है जिससे अपने संपर्क में आने वाले दुसरे कंप्यूटर को भी प्रभाबित कर सकता है।

वायरस का फुल फॉर्म क्या है (Full Form of Virus)   

वायरस (VIRUS) का पूरा नाम (Full Form) Vital Information Resource Under Siege (वितल इन्फोर्मेशन रेसौर्र्स अंडर सिएजे) होता है।  

कंप्यूटर वायरस के प्रकार (Types of Computer Virus in hindi)

  • बूट सेक्टर वायरस (Boot Sector Virus)
  • वेब स्क्रिप्टिंग वायरस (Web Scripting Virus)
  • अपेण्ड वायरस (Append Virus)
  • मैक्रो वायरस (Micro Virus)

बूट सेक्टर वायरस (Boot Sector Virus)

इस वायरस को Boot Infector या MBR और DBR virus के नाम से भी जाना जाता है। अगर ये वायरस कंप्यूटर में होता है तो जब भी आप कंप्यूटर को Boot करोगे तो ये पुरे कंप्यूटर में फ़ैल जाता है।

Boot Sector Virus कंप्यूटर सिस्टम में उपस्थित ऑपरेटिंग सिस्टम को ही प्रभाबित करता है जिससे ऑपरेटिंग सिस्टम सही से काम करना बंद कर दता है।

यह वायरस अशुरक्षित कंप्यूटर नेटवर्क, Corrupted मेडिया फाइल या पहले से वायरस एफेक्टेड स्टोरेज डिवाइस के द्वारा कंप्यूटर में प्रवेश करता है।

वेब स्क्रिप्टिंग वायरस (Web Scripting Virus)

वेब स्क्रिप्टिंग वायरस एक प्रकार का मैलवेयर (Malware) होता है जो वेब ब्राउज़र को नुकसान पहुंचाने का कार्य करता है। यह वायरस कंप्यूटर में Pop-ups या संक्रमित वेबसाइट के द्वारा कंप्यूटर में फैलता है।

यह वायरस आपकी कंप्यूटर में मोजूद data को नुकशान कर सकता है और आपका data चुरा सकता है तथा आपके कंप्यूटर की स्पीड की धीमी कर सकता है।

आप कितने बार किसी वेबसाइट को खोलते होंगे तो आपको एक pop-ups block का आप्शन आता होगा जिसे block करना होता है, अगर नहीं करेगे तो इससे आपको बार बार pop-ups आता रहेगा और अगर आप allow कर देंगे तो हो सकता है आपके कंप्यूटर में ये वायरस आ सकता है।

अपेण्ड वायरस (Append Virus)

Append Virus एक वायरस होता है जो कंप्यूटर के file के अंत में एक हानिकारक कोड को डाल देता है जिससे दुसरे वायरस के तुलना में इस वायरस की पता लगाना मुस्किल होता है।

मैक्रो वायरस (Micro Virus)

Micro virus को Micro Language के द्वारा बनाया जाता है जो की एक programming language होता है। जब कंप्यूटर में माइक्रो वायरस से इफेक्ट डॉक्यूमेंट को ओपन किया जाता है जब यह वायरस कंप्यूटर फ़ैल जाता है। यह वायरस कंप्यूटर में उपस्थित सभी data और file को इफेक्ट करता है।

रेजिडेंट वायरस (Resident Virus)

ये एक यैसा वायरस होता है जो कंप्यूटर की primary memory में उपस्थित होता है जैसे की RAM में। जब यूजर कंप्यूटर को ओपेन किया जाता है तो ये वायरस अपने आप active हो जाता है और कंप्यूटर में चल रही फाइलस को Crrupt कर देता है।

ये वायरस कंप्यूटर के लिए हानिकारक (harmful) होता है क्यों की ये कंप्यूटर को काफी नुकसान पहुंचा सकता है।

मल्टीपैरटाइट वायरस (Multipartite Virus)

Multipartite Virus काफी तेज़ गति से एक कंप्यूटर से दुसरे कंप्यूटर में फ़ैल सकता है और ये कंप्यूटर में हो भी रहेगा उसे इफेक्ट करता है। ये वायरस कंप्यूटर के हार्ड ड्राइव और बूट सेक्टर में executable फाइल के लिए हानिकारक होता है।

ट्रोजन हॉर्स (Trojan Horse)

ये वायरस एक प्रकार का Malware होता है जो की यूजर के द्वारा कंप्यूटर में किसी नए सॉफ्टवेर प्रोग्राम को Install के दौरान कंप्यूटर में प्रवेश कर जाता है। ये वायरस कंप्यूटर में Unauthorized तरीके से एक्सेस करके कंप्यूटर में उपस्थित फाइलों को डिलीट कर सकता है।

कैविटी वायरस (Cavity Virus)

Cavity Virus कंप्यूटर में मौजूद फाइलों के खाली हिंसे में घुस जाता है इसलिए इस वायरस को Spacefiller वायरस भी कहा जाता है। ये वायरस खाली स्पेस में मौजूद होता है इसलिए यूजर इसे जल्दी पहचान नहीं पता है।

कंप्यूटर को Virus से क्या नुकसान होता है?

  • जब किसी कंप्यूटर में वायरस आजाता है तो उस कंप्यूटर को कई प्रकार से नुकसान पहुंचा सकता है जैसे की –
  • कंप्यूटर में वायरस आजाने से कंप्यूटर की स्पीड बहुत कम हो जाता है।
  • कुछ यैसे वायरस होते हैं जो कंप्यूटर में आजाये तो वो आपके कंप्यूटर की ऑपरेटिंग सिस्टम को भी नष्ट कर सकता है।
  • वायरस कंप्यूटर की स्टोरेज डिवाइस को Corrupt कर सकता है।
  • यूजर के द्वारा कंप्यूटर में रखे हुए डाटा को चोरी कर सकता है।
  • कंप्यूटर में उपस्थित Impotent Files, Documents, Programs आदि को delete कर सकता है।
  • ये वायरस आपके एक कंप्यूटर से दुसरे कंप्यूटर में आसानी फ़ैल सकता है जो की Email attachment या pendrive तथा अन्य removable डिवाइस के माध्यम से फैलता है।   

कंप्यूटर में वायरस आने के कारण?

किसी भी कंप्यूटर में वायरस आने के बहुत से कारण होते हैं और अलग अलग तरह के वायरस को कंप्यूटर में आने के अलग अलग तरीके होते हैं। तो चलिए जानते हैं की कंप्यूटर में किन किन बजह से वायरस आ सकता है जिससे की आपको जानकारी मिल सके की कंप्यूटर में किस बजह से आता है।

  • अगर आप किसी यैसे साईट को अपने ब्राउज़र में खोलते है जो पहले से वायरस efected हो तो आपके कंप्यूटर में वायरस आ सकता है।
  • जब आप किसी यैसे Pendrive या अन्य storage डिवाइस को अपने कंप्यूटर में कनेक्ट करते हैं जो की किसी वायरस efected कंप्यूटर में use किया हुआ हो तो उससे आपके कंप्यूटर में वायरस आने की चांसेस बढ़ जाता है।
  • जब आप किसी यैसे फाइल या डॉक्यूमेंट को अपने कंप्यूटर में ओपेन करते है जिसमे वायरस हो तो इससे आपके कंप्यूटर में वायरस आ सक्ता है।
  • जब आप ब्राउज़र में गलत साईट को ओपेन करते हैं तो उस साईट में एक Pop-ups आता है जिसे अगर आप अल्लो कर देते हैं ईससे भी आपके कंप्यूटर में वायरस आ सकता है।
  • अगर किसी पब्लिक एरिया में फ्री की Wifi का उपयोग करते हैं तो कितने बार उससे भी आपके कंप्यूटर में वायरस आसक्ता है।  

कंप्यूटर वायरस की लक्षण

जब भी आपके कंप्यूटर में वायरस आजाता है या आपके कंप्यूटर वायरस effected हो जाता है तो आपके कंप्यूटर में निम्नलिखित लक्षण दिखने लगता है जैसे की –

  • आपके कंप्यूटर से अचानक से अपने आप डाटा, फाइल या डॉक्यूमेंट डिलीट हो जाना।
  • आपके कंप्यूटर में अपने आप कोई सॉफ्टवेर प्रोग्राम Install या Uninstall हो जाना।
  • कंप्यूटर को चलते चलते अपने आप रीस्टार्ट होने लगना।
  • आपके कंप्यूटर सिस्टम को बहुत slow हो जाना।
  • कंप्यूटर में फाइल को डुप्लीकेट फाइल बन जाना।
  • कंप्यूटर में कोई प्रोग्राम अपने आप चलने लगना।

कंप्यूटर वायरस से बचने के उपाय

चलिए दोस्तों अब मैं आपको कुछ यैसे तरीके के बारे में जानकारी दे देता हूँ जिससे की आप अपने कंप्यूटर को वायरस से आसानी से बचा सकते हैं।

  • सबसे पहले आपको अपने कंप्यूटर सिस्टम में कोई अछि सी एंटीवायरस (Antivirus) को इनस्टॉल कर लेना और उसे समय समय पर अपडेट करते रहना है जिससे की वो एंटीवायरस आपके कंप्यूटर को वायरस से प्रोटेक्ट करेगा।
  • अपने कंप्यूटर ब्राउज़र में किसी Insecure site या गलत वेबसाइट को नहीं खोले क्योंकि यैसे वेबसाइट ज़्यादातर वायरस एफेक्टेड होता है।
  • Pendrive या किसी अन्य Removable डिवाइस को विना स्कैन किये हुए अपने कंप्यूटर में इस्तेमाल ना करे, अगर वो डिवाइस वायरस एफेक्टेड रहा तो स्कैन नहीं करने से आपके कंप्यूटर में वायरस आ सकता है।
  • किसी भी Insecure वेबसाइट से अपने कंप्यूटर में कुछ भी Download ना करे जैसे की Movie, Video, MP3 song, application आदि।
  • अपने कंप्यूटर में किसी भी पब्लिक wifi को कनेक्ट ना करे क्योंकि फ्री की wifi अधिकतर लोग उपयोग करता है और यैसे जगहों पर ही हैकर वायरस के माध्यम से दुसरे के कंप्यूटर सिस्टम या मोबाइल को हैक करके फायदा उठाता है।
  • अपने कंप्यूटर में किसी अनजाने email में attached फाइल्स या Links को बिलकुल भी Open ना करे क्योंकि ज़्यादातर यैसे फाइल्स या links के में ही वायरस रहता है।   

एंटीवायरस (Antivirus) क्या है?

एंटीवायरस एक येसा प्रोग्राम होता है जो कंप्यूटर में वायरस को आने से रोकता है और कंप्यूटर में मोजूद वायरस की खोज करके उसे कंप्यूटर से डिलीट करता है। एंटीवायरस को इसलिए सभी कंप्यूटर में डाला जाता है ताकि ये कंप्यूटर को वायरस से शुरक्षित रख सके। Avast, QuicHeal, McAfee और Kaspersky आदि कुछ एंटीवायरस है जो बहुत पोपुलर है।  

FAQ – Computer Virus क्या है?

कंप्यूटर वायरस की परिभाषा

कंप्यूटर वायरस एक येसा सॉफ्टवेर प्रोग्राम होता है जो एक बार किसी कंप्यूटर में आजाता है तो उस कंप्यूटर को काफी नुकसान पहुंचाता है जैसे की वो कंप्यूटर बहुत धीमी गति से कार्य करने लगता है और उस कंप्यूटर का data को भी चुरा सकता है आदि।

प्रथम कंप्यूटर वायरस कौन सा है?

सबसे पहला कंप्यूटर वायरस का नाम क्रीपर (Creeper) था जिसे 1971 ई० में Robert Thomas नाम के व्यक्ति ने बनाया था।

कंप्यूटर वायरस की खोज किसने की

रोबर्ट थॉमस (Robert Thomas) नाम के व्यक्ति कंप्यूटर वायरस का खोज किया था।

निष्कर्ष / Conclusion

दोस्तों मुझे उमीद है की ये आर्टिकल Computer Virus क्या है को अप शुरू से अंत तक अवश्य पढ़े होंगे, जिसमे आपको कंप्यूटर वायरस की पूरी जनकारी मिल गया होगा और अब आपके मन में कंप्यूटर वायरस से जुरे किसी प्रकार का प्रश्न नहीं होगा। अगर ये जानकारी आपको काम का लगा तो इसे अपने दोषों के साथ अवश्य शेयर कीजिये।

वैसे तो मैं इस आर्टिकल Computer Virus क्या है में कंप्यूटर वायरस की पूरी जानकारी सही सही और बहुत ही सरल शब्दों में समझाया हूँ, फिर भी आपको लगे की इस आर्टिकल में कुछ छुट गया है या कुछ गलती है तो आप मुझे कमेंट में अवश्य बताये, मैं उसे तुरंत Update करने की कोशिश करूँगा।

इस आर्टिकल Computer Virus क्या है को पढने के बाद आपके मन में कोई प्रश्न आया हो या आपको कंप्यूटर से रिलेटेड मुझसे कुछ पूछना हो तो आप मुझे कमेन्ट में पूछ सकते हैं या फीर मेरे इस ब्लॉग Rahiweb.com के Contact Us पेज में जाकर मुझसे संपर्क कर सकते हैं। आर्टिकल को पूरा पढने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

ये जानकारी भी पढ़ें –

Hello Friends. मेरा नाम Baiju Mukhiya और मैं इस Blog rahiweb Digital का Founder हूँ। मैं इस ब्लॉग पर Digital marketing, Make Money, SEO Tips, Blogging, YouTube, Internet, Computer, new technology and Web hosting, app, mobile, software reviews आदि की जानकारी पोस्ट करता हूँ।

Leave a Comment