Storage Device क्या है और कितने प्रकार के होते हैं | What is Storage Device in hindi

Storage device क्या है (What is Storage Device in hindi), Storage Device कितने प्रकार के होते हैं तथा इसका कार्य, परिभाषा और उपयोग क्या है?

क्या आपको पता है कि Storage Device क्या है या Storage Device किसे कहा जाता है? अगर नही पता है तो ये आर्टिकल आपके लिए बहुत खास होने वाला है, क्योंकि इस आर्टिकल में आपको Storage Device की पूरी जानकारी मिलेगा।

इस आर्टिकल में आपको Storage Device क्या है और कितने प्रकार के होते हैं तथा Storage Device के कार्य क्या है, परिभाषा क्या है और उपयोग कहाँ होता है आदि की पूरी जानकारी मिलेगा। इसलिए आप इस आर्टिकल को शुरू से अंत तक अवश्य पढ़े।

वैसे तो नाम से ही पता चलता है की Storage Device का मतलब स्टोर करने वाले Device होता होगा लेकिन आप इस आर्टिकल में Storage Device की पूरी जानकारी को बहुत ही आसान भाषा में समझेंगे जिससे फिर आपको इसके लिए किसी दूसरे जगह से जानकारी नही लेना परे। तो चलिए जान लेते हैं की Storage Device क्या है या किसे कहा जाता है।

Storage Device क्या है (What is Storage Device in hindi)

स्टोरेज डिवाइस एक कंप्यूटर हार्डवेयर डिवाइस है जो की कंप्यूटर में Data, Information, Software, Documents, Graphics, Image, Audio, Video आदि को भविष्य (Future) के लिए सेव या स्टोर करके रखने का कार्य करता है।

Storage Device क्या है
Storage_device_kya_hai

स्टोरेज डिवाइस कंप्यूटर हार्डवेयर का बहुत ही महत्वपूर्ण भाग होता है जो की कंप्यूटर में किये जाने वाले एक्टिविटीज को शोर्ट टर्म और लॉन्ग टर्म के लिए Digital form में Store करके रखता है। स्टोरेज डिवाइस अपने अंदर स्टोर या सेव किये गए एक्टिविटीज या डेटा को जरुरत परने पर तुरंत उपलब्द कराता है।

स्टोरेज डिवाइस में कंप्यूटर की सभी एप्लीकेशन, फाइल और डेटा स्टोर रहता है साथ ही कंप्यूटर में चलने वाले Operating System program file भी स्टोरेज डिवाइस में save रहता है।

Storage Device का कार्य

स्टोरेज डिवाइस का कार्य यूजर के द्वारा इनपुट किये गए data को स्टोर करना और एक एक करके उसे processing में भेजना होता है। जब डेटा processor के द्वारा process हो कर इनफार्मेशन बन जाता है तो यूजर उस इनफार्मेशन को future में उपयोग के लिए स्टोरेज डिवाइस में Save करके रखता है तो स्टोरेज देवसे का कार्य है उसे अपने अंदर स्टोर करके रखना ताकि जरुरत पर उस जानकारी को यूजर उपयोग कर सके।

  • इनपुट डेटा को स्टोर करना और बारी बारी से processing में भेजना।
  • कंप्यूटर की सभी सॉफ्टवेयर और फाइल्स को स्टोर करके रखना और future में उपयोग के लिए provide करना।
  • Processing होने के बाद यूजर के द्वारा जानकारी को Save करने पर स्टोर करके रखना।  

Storage Device की परिभाषा

स्टोरेज डिवाइस कंप्यूटर हार्डवेयर का बहुत ही महत्वपूर्ण हिंसा होता है जो की कंप्यूटर में यूजर के द्वारा इनपुट किये गए data को स्थाई तथा अस्थाई रूप से Save या Store करता है और इनपुट data को बारी बारी से processing में भेजने का काम करता है।

Storage Device के प्रकार

कंप्यूटर में दो प्रकार के स्टोरेज डिवाइस होता है या फिर ये कहें की कंप्यूटर में जितने भी स्टोरेज डिवाइस का उपयोग किया जाता है उसे दो भागो में रखा गया है जो की पहला Primary Storage Device और दूसरा Secondary Storage Device है और इसे Primary memory और Secondary memory भी कहा जाता है।

प्राइमरी स्टोरेज डिवाइस (Primary Storage Device) क्या है?

प्राइमरी स्टोरेज डिवाइस किसी कंप्यूटर का मुख्य स्टोरेज डिवाइस होता है जो की Data को अस्थाई रूप से save करता है। ये डिवाइस processing डिवाइस के मददगार होता है जो की इनपुट data को पगले स्टोर करता है और बारी बारी से उसे प्रोसेसिंग में भेजत है।

प्राइमरी स्टोरेज डिवाइस साइज़ में छोटे होते हैं और कंप्यूटर के internal part में फिट रहता है और इसलिए इसे internal स्टोरेज डिवाइस के नाम से भी जाना जाता है। इस डिवाइस में किसी भी data को बहु तेजी से स्टोर करने की क्षमता होतो है।

प्राइमरी स्टोरेज डिवाइस के उदहारण निम्नलिखित है।

  1. RAM (Random Access Memory)
  2. ROM (Read Only Memory)

सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस (Secondary Storage Device) क्या है?

सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस एक ज्यादा क्षमता वाली स्टोरेज डिवाइस होता है जो की अपने अंदर data को स्थाई रूप से स्टोर करने की काम करता है। ये डिवाइस कंप्यूटर के internal और external दोनों तरह के डिवाइस होता है।

सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस की capacity बहुत अधिक होता है इसलिए ये अपने अंदर काफी ज्यादा जानकारी को स्टोर करके रखता है। सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस में सभी अलग अलग उपकरण के स्टोरेज क्षमता अलग अलग होता है और सभी अपने capacity के अनुसार data स्टोर करता है।

सेकेंडरी स्टोरेज डिवाइस के उदहारण निम्नलिखित है।

  1. Hard Disk
  2. Flopy Disk
  3. CD / DVD
  4. Pendrive
  5. SD Card
  6. SSD

Storage device का उपयोग

स्टोरेज डिवाइस का उपयोग कंप्यूटर में डेटा या जानकारी को स्टोर करने के लिए किया जाता है ताकि कंप्यूटर को सुचालू रूप से चलाया जा सके और किसी भी data को बहुत ही आसानी से कम समय में future में खोजा या उपयोग किया जा सके।

कंप्यूटर को स्टोरेज डिवाइस के उपयोग के बिना नहीं चलाया जा सकता है क्योंकि की ऑपरेटिंग सिस्टम भी इसी में स्टोर रहता है जो की कंप्यूटर को start करने से बंद करने तक की सभी कर्ट करता है। इसी में सभी प्रकार के सॉफ्टवेयर और सभी file स्टोर किया जाता है ताकि कंप्यूटर में उसका आसानी से use किया जा सके।

Conclusion / निष्कर्ष

दोस्तों मैं उमीद करता हूँ की आपको इस आर्टिकल में Storage Device के बारे में दिये गए जानकारी को पढ़कर Storage Device क्या है की पूरी जानकारी सही से समझ में आगया होगा और Storage Device के बारे में आपके मन में जो भी सवाल होगा उसका जबाब भी आपको मिल गया होगा।

ये जानकारी पढ़ने के बाद आपको Storage Device क्या है पूरी जानकारी मिल गया और आपको लगता है की ये जानकारी सही है तो आप इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ अवश्य शेयर कीजिये जिससे उन्हें भी Storage Device की पूरी जानकारी मिल सके।

वैसे तो मैं इस आर्टिकल में Storage Device क्या है की पूरी जानकारी सही सही और आसान भाषा में समझाने की कोशिश किया हूं फिर भी आपको लगे की इसमें कुछ छुट गया है तो कॉमेंट में अवश्य बताये और आपको कंप्यूटर के बारे में मुझसे कूछ पूछना हो तो आप मुझे Comment में पूछ सकते हैं या मेरे इस ब्लॉग के Contact Us पेज में जाकर मुझसे संपर्क कर सकते हैं।

ये जानकारी भी पढ़ें

Hello Friends. मेरा नाम Baiju Mukhiya और मैं इस Blog rahiweb Digital का Founder हूँ। मैं इस ब्लॉग पर Digital marketing, Make Money, SEO Tips, Blogging, YouTube, Internet, Computer, new technology and Web hosting, app, mobile, software reviews आदि की जानकारी पोस्ट करता हूँ।

Leave a Comment